पीडियाट्रिक इंटेंसिव केयर यूनिट


मणिपाल हास्पिटल्स में ‘पीडियाट्रिक इंटेंसिव इन इंटेंसिव केयर यूनिट’ (पीआईसीयू) 18 वर्ष से कम आयु वाले बहुत बीमार एवं विभिन्न चिकित्सा और शल्य चिकित्सा स्थितियों वाले बच्चों को विशेष देखभाल प्रदान करने तथा प्रबंधित करने के लिए प्रतिबद्ध है। बच्चे और माता-पिता दोनों के लिए उपचार को परेशानी मुक्त बनाने के लिए हमारा पीआईसीयू विभाग आधुनिक प्रौद्योगिकी और अनुभवी बाल रोग विशेषज्ञों से पूरी तरह सुसज्जित है। रोगियों से मित्रवत व्यवहार करने वाला हमारा स्टाफ और वार्ड नर्सें आपके बच्चे की अच्छी देखभाल करना सुनिश्चित करते हैं और आवश्यकता पड़ने पर भावनात्मक समर्थन और आराम प्रदान करते हैं। बैंगलोर में स्थित पीआईसीयू आपके बच्चे की पूरी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए संक्रमण पर नियंत्रण हेतु निर्धारित प्रोटोकॉल का सख्ती से अनुपालन करती है।

OUR STORY

Know About Us

Why Manipal?

मणिपाल हास्पिटल भारत में अग्रणी मल्टीस्पेशलिटी स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं में से एक है। हमारा मुख्य उद्देश्य बच्चे और परिवार की जरूरतों के प्रति संवेदनशील माहौल में गंभीर रूप से बीमार बच्चों को गुणवत्तापूर्ण देखभाल प्रदान करना है।

  • हास्पिटल में उपलब्ध सुविधाएं अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप हैं। 

  • मणिपाल हास्पिटल्स में पीआईसीयू जटिल और आपातकालीन बाल चिकित्सा मामलों का सर्वोत्तम व्यापक उपचार और देखभाल प्रदान करता है। 

  • इस विभाग में अनुभवी पीआईसीयू सलाहकार तथा बैंगलोर के सर्वश्रेष्ठ नियोनेटोलॉजिस्ट हैं और यह प्रशिक्षित पैरामेडिकल स्टाफ द्वारा समर्थित उन्नत विशेषताओं से सुसज्जित है। 

  • आपके बच्चे को यथासंभव सर्वोत्तम देखभाल देने के लिए मणिपाल हास्पिटल, बैंगलोर में पीआईसीयू श्वसन, तंत्रिका विज्ञान, हृदय रोग, आदि जैसे अन्य विभागों के साथ मिल जुलकर काम करती है।

  • बंगलौर और उसके आसपास के रेफरल केंद्रों से बच्चों का सुरक्षित स्थानांतरण प्रदान करने के उद्देश्य से हमारे पास बैंगलोर में नियोनेटोलॉजिस्ट की समर्पित टीम भी है। 

हम बैंगलोर में स्थित बाल चिकित्सा गहन देखभाल इकाई हास्पिटल्स में से एक हैं, जिसमें गंभीर रूप से बीमार मरीजों का बिना समय गंवाए शीघ्र उपचार करने के लिए 24/7 आधार पर कार्य करने वाली लैब तथा सीटी स्कैन, एमआरआई स्कैन, पीईटी स्कैन सेवाओं और अल्ट्रासोनोग्राफी जैसी इमेजिंग सुविधाएं हैं।

उपचार और प्रक्रियाएं

  • श्वसन संबंधी सहायता: पीआईसीयू सांस लेने में कठिनाई अनुभव वाले बच्चों को विभिन्न प्रकार की श्वास सहायता प्रदान करती है। इन प्रक्रियाओं में यांत्रिक वेंटिलेशन, नॉन-इनवेसिव वेंटिलेशन एवं हाई फ्लो ऑक्सीजन (एचएफएनसी) शामिल हैं।
  • रक्तचाप पर नजर रखने की इन्वेसिव एंड नॉन-इनवेसिव प्रक्रियायें: मणिपाल हास्पिटल्स के पीआईसीयू में रक्तचाप पर नजर रखने की इन्वेसिव एंड नॉन-इनवेसिव प्रक्रियायें उपलब्ध हैं। इन्वेसिव तरीके से रक्तचाप की माप करने वाला मॉनिटर, ऐसे विश्वसनीय और सटीक मान प्रदान करता है जिनकी क्रिटिकल केयर यूनिट में बहुत जरूरत होती है।
  • सेंट्रल वेनस एक्सेस और पीआईसीसी लाइन सेवाएं: ‘पेरिफेरल इन्सर्टेड सेंट्रल कैथिटर’ सीधे रक्तप्रवाह में दवाएं और पोषक तत्व डालता है। पीआईसीयू में अन्य सेंट्रल वेनस कैथेटर प्रक्रियाएं भी उपलब्ध हैं।
  • प्रक्रियात्मक शामक प्रक्रिया: पीआईसीयू में विभिन्न नैदानिक ​​और शल्य चिकित्सा प्रक्रियाओं के दौरान अपनायी जाने वाली बेहोश करने की प्रक्रिया विशेषज्ञ एनेस्थेसियोलॉजिस्ट द्वारा की जाती है।
  • हेमोडायलिसिस और पेरिटोनियल डायलिसिस: हेमोडायलिसिस और पेरिटोनियल डायलिसिस प्रक्रियाएं ऐसे बच्चों में की जाती हैं जिन्हे गुर्दे सही से काम न करने की तीव्र या पुरानी बीमारी है। ये प्रक्रियायें विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा की जाती हैं।
  • प्लाज्मा एक्सचेंज थेरेपी: कुछ खास रोगों में जीवन बचाने के लिए उपयोग की जाने वाली प्लाज्मा एक्सचेंज थेरेपी भी मणिपाल हास्पिटल्स के पीआईसीयू में उपलब्ध है।
  • नींद का अध्ययन: बच्चों में नींद संबंधी विकारों से संबंधित विभिन्न मुद्दों की पहचान करने के लिए नींद का अध्ययन किया जाता है, जैसे नींद में चलना, नींद में आने वाले व्यवधान आदि।
  • बेडसाइड कन्टिन्यूअस ईईजी / ईसीजी (मस्तिष्क / हृदय की विद्युतीय गतिविधि): हृदय और मस्तिष्क के कार्यों की निरंतर निगरानी करने के लिए बेडसाइड कन्टिन्यूअस ईईजी / ईसीजी की सुविधाएं उपलब्ध हैं।
  • कार्डिएक आउटपुट मॉनिटरिंग: बाल चिकित्सा से संबंधित संज्ञाहरण और गहन देखभाल इकाइयों में ये प्रक्रियाएं महत्वपूर्ण हैं।
  • ट्रेकियोस्टोमी देखभाल: बाल रोग सर्जन उन बच्चों में ट्रेकियोस्टोमी करते हैं जिन्हें सांस लेने में कठिनाई होती है।

यदि आप बैंगलोर में स्पेशलिस्ट हास्पिटल खोज रहे हैं, तो मणिपाल हास्पिटल आने से आपको प्रभावी और किफायती उपचार मिल सकता है।

Facilities & Services

  • बाल रोग विशेषज्ञ: हमारी पीआईसीयू विशेषज्ञ टीम में सर्जरी, पल्मोनोलॉजी, कार्डियोलॉजी, न्यूरोलॉजी, एंडोक्रिनोलॉजी, गैस्ट्रो-एंटरोलॉजी, लीवर और अग्नाशय संबंधी विकार, श्‍वसन मार्ग सेवाएं और ईएनटी, संक्रामक रोग, नेफ्रोलॉजी और यूरोलॉ
  • जी, हड्डी रोग, और नेत्र विज्ञान सहित बाल चिकित्सा देखभाल के विभिन्न पहलुओं के विशेषज्ञ हैं।
  • कार्डियोथोरेसिक सर्जरी: मणिपाल हास्पिटल में हृदय वाल्व रोग, जन्मजात हृदय रोग, और पेटेंट डक्टस आर्टेरियोसस जैसे हृदय रोगों से पीड़ित बच्चों में विभिन्न प्रकार की कार्डियोथोरेसिक सर्जरी करने के लिए उन्नत सुविधाएं और विशेषज्ञों की टीम है।
  • इंटरवेंशनल रेडियोलॉजी: हास्पिटल में विभिन्न बाल रोगों के निदान और उपचार के लिए उन्नत स्तर की इमेज-गाइडेड, न्यूनतम इनवेसिव प्रक्रियाएं उपलब्ध हैं।
  •  
  • हेमटोलॉजी और बोन मैरो ट्रांसप्लांट: पीआईसीयू में बोन मैरो ट्रांसप्लांट करने की संपूर्ण सुविधाएं हैं। यह इकाई विभिन्न रुधिरविज्ञान संबंधी (हेमटोलोगिक) स्थितियों वाले रोगियों में व्यापक देखभाल भी प्रदान करती है।
  • ऑन्कोलॉजी: पीआईसीयू में विभिन्न प्रकार के कैंसर के निदान और उपचार की सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं। पीडियाट्रिक ऑन्कोलॉजी टीम में पीडियाट्रिक ऑन्कोलॉजिस्ट, हेमेटोलॉजिस्ट, ऑन्को-सर्जन और रेडियोलॉजिस्ट शामिल हैं।
  • न्यूरोसर्जरी और स्पाइन सर्जरी: यदि बाल चिकित्सा से संबंधित न्यूरोलॉजिकल रोगों में आवश्यक हो तो पीआईसीयू न्यूरोसर्जरी भी करती है। हास्पिटल में स्पाइन सर्जरी की सुविधा भी उपलब्ध है।
  • आनुवंशिक सेवाएं: पीआईसीयू में पीडियाट्रिक आनुवंशिक सेवाएं उपलब्ध हैं। पीआईसीयू में विभिन्न आनुवंशिक रोगों जैसे डाउन सिंड्रोम, सिस्टिक फाइब्रोसिस और फ्रेजाइल एक्स सिंड्रोम का निदान करने की सुविधा उपलब्ध है।
  • फिजियोथेरेपी: जिन बच्चों की सर्जरी हुई है या जो लंबे समय से हास्पिटल में भर्ती हैं, उन्हें फिजियोथेरेपी की आवश्यकता होती है। पीआईसीयू, फिजियोथेरेपी सेवाएं प्रदान करती है जो स्वस्थ होने की प्रक्रिया में तेजी लाती है।
  • न्यूरो-रिहैबिलिटेशन: मणिपाल हास्पिटल में पीआईसीयू को कार्यात्मक विकारों वाले बच्चों के लिए न्यूरो-रिहैबिलिटेशन सेवाएं प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

ये सभी सुविधाएं मणिपाल को बैंगलोर का सर्वश्रेष्ठ हास्पिटल बनाती हैं

FAQ's

The PICU team strictly follows infection control protocols. All the people entering the unit must remove the footwear and wash their hands. The doctors place the children, with a high risk of infection, in isolation cubicles.

The PICU team comprises various members working in coordination to provide the best medical care to children. The medical staff provides the treatment while the nursing staff takes care of the children. The patient-care coordinator helps the parents with finance and billing, and the dietician provides the best diet for children to ensure a fast recovery.

Children suffering from severe and life-threatening conditions are required to be admitted to the PICU. The PICU is equipped with life-saving machines to manage emergency conditions in those below 18 years of age. The advanced diagnostic facilities help in initiating early treatment. The conditions requiring PICU admission are Acute Respiratory Distress, apnoea, sepsis, trauma, seizures, poisoning, trouble breathing, accidents and cardiovascular complications. Visit our paediatric intensive care unit in Bangalore for the treatment.

Both the units are for managing severe and life-threatening conditions. However, the type of patients varies. While NICU focusses more on the diseases associated with newborn, PICU handles life-threatening conditions of patients aged one month to 18 years. For paediatric treatment in Bangalore, visit Manipal Hospitals.

There is no set timeline when the child is shifted to the general ward or discharged from the hospital. It varies between medical conditions. The doctor shifts the child from PICU if he is out of danger. To know more, visit the child care hospital in Old Airport Road.

Homecare icon अपॉइंटमेंट
Homecare icon स्वास्थ्य जांच
Homecare icon होम केयर
हमसे संपर्क करें
सीओओ को लिखें
review icon हमारी समीक्षा करें
हमें कॉल करें