नेत्र विज्ञान


भारत में सबसे विशिष्ट नेत्र स्वास्थ्य व्यवस्थाओं में से एक के रूप में, मणिपाल हास्पिटल्स का नेत्र विज्ञान विभाग रोगियों को पारंपरिक प्रक्रियाओं और सर्जरी जैसे विशेषज्ञ स्तरीय निदान और उपचार प्रदान करता है।

OUR STORY

Know About Us

Why Manipal?

मणिपाल हॉस्पिटल्स की कुशल नेत्र रोग विशेषज्ञों की टीम ने अभी तक हजारों रोगियों का सफल निदान और उपचार किया है। ऑप्थल्मोलॉजी विभाग की बहु-विषयी टीम यह सुनिश्चित करती है कि रोगियों को विभिन्न प्रकार के समाधान प्राप्त हों ताकि वे दी गई सलाह के आधार पर अपने लिए सर्वोत्तम निर्णय ले सकें। विभिन्न प्रक्रियाओं को सुरक्षित और प्रभावी ढंग संचालित करना सुनिश्चित करन के लिए यह टीम विभिन्न विषयों के विशेषज्ञों के साथ सहयोग पूर्वक काम करती है।

Treatment & Procedures

मोतियाबिंद सर्जरी

मोतियाबिंद की समस्या आमतौर पर वृद्ध लोगों में पाई जाती है, जिसके कारण आंख के लेंस पर सफेदी सी छा जाती है जिसके कारण दृष्टि धुंधली हो जाती है, रंग फीके दिखाई देते हैं और रतौंधी की समस्या हो जाती है। मोतियाबिंद सर्जरी आँखों पर छाई सफेदी को हटाने और दृष्टि को सामान्य स्थिति में लाने के लिए की जाने वाली प्रक्रिया है। यह काफी सामान्य प्रक्रिया है और अधिकांश…

Read More

विश्व स्तर पर, 2 बिलियन से अधिक लोगों को देखने में कठिनाई या किसी न किसी प्रकार की दृष्टि से संबंधित अक्षमता रही है, जिनमें से कम से कम 1 बिलियन मामलों को चिकित्सा करके से रोका जा सकता था। दुनिया भर में दृष्टि से संबंधित अक्षमता के प्रमुख कारण, समय पर उपचारित नहीं होने वाली आंख के लेंस के अपवर्तक गुणों से संबंधित त्रुटियां और मोतियाबिंद रहे हैं। दृष्टिहीनता के अधिकांश मामले 50 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में देखे गए हैं।

मणिपाल हॉस्पिटल्स के नेत्र रोग विशेषज्ञ और कार्डियोवस्कुलर सर्जन प्रभावी उपचार संभव करने में सटीक निदान की महत्ता में विश्वास करते हैं। यह टीम विभिन्न प्रकार के नैदानिक ​​उपकरणों और परीक्षणों की व्यवस्था से संपन्न है जिनसे नेत्र संबंधी विकारों की पहचान की जा सकती है। नेत्र सर्जनों की हमारी टीम द्वारा किए जाने वाले प्रक्रियात्मक उपचार न्यूनतम इनवेसिव और यथासंभव सुरक्षित होने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं।

Facilities & Services

कुछ नैदानिक ​​सुविधाएं इस प्रकार हैं:- कलर विजन टेस्ट (फार्नवर्थ-मुन्सेल 100 (एफएम-100) ह्यू टेस्ट), विजुअल फील्ड टेस्ट, कम्प्यूटरीकृत ऑप्टिक डिस्क इमेजिंग और नर्व फाइबर लेयर एनालिसिस (जीडीएक्स, एचआरटी, ओसीटी) - इलेक्ट्रो-डायग्नोस्टिक टेस्टिंग - कॉर्नियल स्थलाकृति मैपिंग - ओकुलर कोहेरेंस टोमोग्राफी (ओसीटी) - फ्लोरेसिन एंजियोग्राफी - स्पेक्युलर माइक्रोस्कोपी – 

की जाने वाली ओकुलर अल्ट्रासाउंड सर्जिकल प्रक्रियाएं - मोतियाबिंद हटाना - ग्लूकोमा सर्जरी - प्रेसबायोपिया रिवर्सल - केराटोमाइल्यूसिस - कन्डक्टिव केराटोप्लास्टी - रेडियल केराटोटॉमी - हेक्सागोनल केराटोटॉमी - लेसेक (LASEK: लेजर असिस्टेड सबपीथेलियल केराटोमाइल्यूसिस) लासिक (LASIK: लेजर-असिस्टेड इन-सीटू केराटोमाइल्यूसिस) ​​- लेजर थर्मल केराटोप्लास्टी - फोटोरिफ्रेक्टिव केराटेक्टोमी - ऑटोमेटेड लैमेलर केराटोप्लास्टी - एपिकेराटोफैकिया - कॉटेक्ट लेंस प्रत्यारोपण – एंटिरियर सिलिअरी स्क्लेरोटॉमी - स्क्लेरल रिइनफोर्समेंट सर्जरी (अपक्षयी मायोपिया को धीमा करने के लिए।)

FAQ's

The ophthalmologist performs a routine inspection to judge the current state of your vision. After a series of tests, your vision score is determined and if there are any ocular disorders, they are diagnosed and the impairment is measured. Minor impairment is usually corrected with spectacles and contact lenses but in some cases, the ophthalmologist may prescribe medication or a procedure.

  • Age (older people are more likely to have impaired vision)

  • Genetic predisposition (family history of color blindness, night blindness, and other. disorders)

  • Poor nutrition

  • Excess UV exposure

  • Diabetes

visit our best eye care hospital in Bangalore to know more about the diagnosis of the risk factors.

● Blurry/hazy vision ● Recurring eye pain ● Rainbows or halos appearing around lights ● Difficulty seeing near or far ● Difficulty in color recognition ● Sensitivity to light ● Severe itching

In most cases, eye disease affects older people and those with a hereditary risk of eye disease. In those cases, it is difficult to prevent eye disease. Aside from these factors, maintaining a good diet and protecting your eyes from harm (UV rays, accidents, etc.) can prevent a lot of eye problems. Consult with our experts at our best ophthalmology hospital in Bangalore to know more about treatment.

Yes, a yearly eye checkup helps you keep track of the health of your eyes and also allows your doctor to detect any problems that are developing in your vision.

मणिपाल हॉस्पिटल्स अपने रोगियों हेतु लाभप्रद दीर्घकालिक संबंधों हेतु निरंतर गुणवत्तापूर्ण, व्यक्तिगत देखभाल प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध रहता है। नेत्र विज्ञान विभाग में नियुक्त की गई उन्नत तकनीक और विशेषज्ञ कर्मचारी इसका प्रमाण हैं।

अपने नेत्रों को स्वस्थ बनाए रखने के बारे में अधिक जानने के लिए हमसे संपर्क करें और आज ही हमारे किसी नेत्र रोग विशेषज्ञ के साथ अपॉइंटमेंट बुक करें।

Explore Stories

Homecare icon अपॉइंटमेंट
Homecare icon स्वास्थ्य जांच
Homecare icon होम केयर
हमसे संपर्क करें
सीओओ को लिखें
review icon हमारी समीक्षा करें
हमें कॉल करें