वृद्धि और हार्मोन


मणिपाल हास्पिटल का शारीरिक विकास और हार्मोन विभाग भारत में सबसे विशिष्ट हार्मोनल उपचार व्यवस्थाओँ में से एक है और शारीरिक विकास और हार्मोनल विकारों के लिए पूर्ण नैदानिक ​​सेवाओं और उपचार की समग्र व्यवस्था प्रदान करता है।

OUR STORY

Know About Us

Why Manipal?

मणिपाल हास्पिटल का शारीरिक विकास और हार्मोन विभाग भारत में सबसे विशिष्ट हार्मोनल उपचार व्यवस्थाओँ में से एक है और शारीरिक विकास और हार्मोनल विकारों के लिए पूर्ण नैदानिक ​​सेवाओं और उपचार की समग्र व्यवस्था प्रदान करता है।

Treatment & Procedures

वृद्धि हार्मोन उपचार

यह उपचार सिंथेटिक हार्मोन का इंजेक्शन होता है, जो ठीक पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा उत्पादित हार्मोन के समान होता है। इस हार्मोन को रोगी में त्वचा के नीचे इंजेक्ट किया जाता है, इसलिए ये इंजेक्शन काफी हद तक दर्द रहित और सुविधाजनक होते हैं। एक बार निर्धारित होने के बाद, यह उपचार स्वयं लिया जा सकता है।

Read More

मणिपाल हॉस्पिटल्स के एंडोक्रिनोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिक एंडोक्रिनोलॉजिस्ट और एंडोक्राइन सर्जन कई प्रकार के विकास संबंधी और हार्मोनल विकारों की पहचान करने और उनका उपचार करने में सक्षम हैं। वे आवश्यकतानुसार अन्य विषयों के विशेषज्ञों के साथ मिलकर काम करते हैं ताकि कार्रवाई का सही क्रम निर्धारित किया जा सके और मरीजों को आगे के लिए सर्वोत्तम मार्ग प्रदान किया जा सके। प्रस्तुत किए गए कुछ उपचार इस प्रकार हैं:

  • वृद्धि हार्मोन की कमी का उपचार

  • टर्नर सिंड्रोम का उपचार

  • यौवन विकार देर से होने या समयपूर्व होने का उपचार

  • चयापचय अस्थि रोग उपचार 

  • पिट्यूटरी ग्रंथि विकार उपचार

  • पिट्यूटरी और अन्य ग्रंथि कैंसर उपचार

Facilities & Services

इस उपचार में सिंथेटिक हार्मोन का इंजेक्शन दिया जाता है, सिंथेटिक हार्मोन ठीक पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा निर्मित किए जाने वाले हार्मोन जैसा होता है। इस हार्मोन को रोगी में त्वचा के नीचे इंजेक्ट किया जाता है, इसलिए यह इंजेक्शन काफी हद दर्द रहित और सुविधाजनक होते हैं। निर्धारित होने के बाद उपचार को स्वयं ही लिया जा सकता है। बच्चे की वृद्धि और विकास पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा स्रावित हार्मोन द्वारा नियंत्रित होता है। कभी-कभी, यह ग्रंथि बहुत अधिक या बहुत कम वृद्धि हार्मोन का उत्पादन करती है, जिसके परिणामस्वरूप विकास चक्र असंतुलित हो जाता है। सामान्य वृद्धि संभव करने के लिए, बच्चे को सामान्य रूप से विकसित होने में सहायक सिद्ध होने वाले हार्मोन इंजेक्ट किए जा सकते हैं। 

FAQ's

After taking a medical history, if there is any suspicion of growth disorder, the endocrinologist will also take a few tests to see the hormonal levels in the patient and if they need correction. It will take a few visits before fully confirming that any growth hormone treatment is necessary.

The rate of growth can be very different among children, but a rule of thumb average for normal growth is considered to be: Months 0-12: growth of around 10 inches Years 1-2: around 5 inches per year Years 2-3: around 3 ½ inches per year Year 3 to puberty: around 2 to 2 ½ inches per year It is possible to fall outside these ranges and still have normal growth, consult a paediatric endocrinologist to know more. Visit Manipal Hospitals, the growth hormone hospital in Bangalore for the treatment.

Face not showing signs of ageing compared to other children Height growth well below the average Delayed puberty Slow development of teeth Slow hair growth

It can be treated if detected at the right time, but since it is a result of a malfunctioning pituitary gland, there is not much preventative action that can be taken. Visit our growth hormone hospital in Bangalore to prevent growth disorders.

Yes, with a number of friendly, non-invasive procedures available for diagnostic purposes, a visit to the doctor can tell you without any risk if you have any hormonal disorders to be worried about.

बेहतर गुणवत्तापूर्ण जीवन संभव करने के लिए प्रयास करना मणिपाल हास्पिटल की कार्यप्रणाली का मूल मंत्र है। वृद्धि हार्मोन विकारों के उपचार के प्रति हमारा समर्पण और निवेश इस बात का प्रमाण है। हमारे पास आएं और वृद्धि और हार्मोनल विकारों के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें, और आज ही हमारे विशेषज्ञ एंडोक्रिनोलॉजिस्ट के साथ मीटिंग निर्धारित करें।

Homecare icon अपॉइंटमेंट
Homecare icon स्वास्थ्य जांच
Homecare icon होम केयर
हमसे संपर्क करें
सीओओ को लिखें
review icon हमारी समीक्षा करें
हमें कॉल करें