गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल साइंस


गैस्ट्रोएंटरोलॉजी में ग्रासनली, जठर, आंत्र, बृहदान्त्र, अग्नाशय, पित्ताशय, पित्त नलिकाओं के साथ-साथ यकृत और गुदा को शामिल करने वाले संपूर्ण पाचन तंत्र पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। ऊपर से नीचे तक के इन सभी अंगों को पीड़ित करने वाले विकार इतने व्यापक हैं कि इसके लिए व्यापक निदान और उपचार की आवश्यकता होती है। मणिपाल हास्पिटल्स के गैस्ट्रोएंटरोलॉजी उत्कृष्टता केन्द्र के निपुण गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट इस डोमेन में अपने क्षेत्र में शीर्ष स्थान पर विराजमान हैं।

OUR STORY

Know About Us

Why Manipal?

यह विभाग विभिन्न प्रकार के पाचन विकारों ​​​​का निदान और उपचार करता है, इसलिए अधिक से अधिक पेचीदा मामलों का उपचार करने वाले उत्कृष्ट गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट, एंडोस्कोपी विशेषज्ञों और न्यूनतम इनवेसिव सर्जनों पर हमें गर्व है। तो कोलाइटिस, गैस्ट्रिटिस हो, बाइल रिफ्लक्स हो या यहां तक ​​कि सिरोसिस, तीव्र यकृत विफलता और एसोफेजेल कैंसर, हमारे विशेषज्ञ अत्याधुनिक निदान और शल्य चिकित्सा तकनीक का उपयोग करके सबसे प्रभावी उपचार प्रोटोकॉल निर्धारित कर सकते हैं।

Treatment & Procedures

एंडोस्कोपिक अल्ट्रासाउंड

यह गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल रोगों का पता लगाने के लिए उपयोग की जाने वाली न्यूनतम इनवेसिव प्रक्रिया है। यह प्रक्रिया एक विशेष एन्डोस्कोप का उपयोग करके की जाती है जो पाचन तंत्र, लिम्फ नोड्स, छाती, यकृत और अग्न्याशय की विस्तृत छवियाँ उत्पन्न करने के लिए उच्च आवृत्ति की ध्वनि तरंगों को प्रसारित करती है। यह प्रक्रिया काफी हद तक नैदानिक ​​प्रकृति की है और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल…

Read More

ईआरसीपी

एंडोस्कोपिक रेट्रोग्रेड चोलंगियोपैंक्रेटोग्राफी या ईआरसीपी ऐसी तकनीक है जो पित्ताशय या अग्नाशय के डक्टल सिस्टम के कुछ रोगों के निदान और उपचार के लिए एंडोस्कोपी और फ्लोरोस्कोपी का मिलाजुला उपयोग करती है।

Read More

मैनोमेट्री

मैनोमेट्री ऐसा परीक्षण है जिसका उपयोग भोजन-नलिका में भोजन की गति में अवरोध और दबाव अनुभव करने के रूप में किया जाता है। मैनोमेट्री में भोजन निगलते समय भोजन-नलिका की शक्ति और मांसपेशियों के समन्वय को मापा जाता है।

Read More

हाइड्रोजन ब्रेथ टेस्ट

हाइड्रोजन ब्रेथ टेस्ट आमतौर पर छोटी आंत में जीवाणुओं की अतिवृद्धि और साथ ही ग्लूकोज / लैक्टोज के अपावशोषण (मैलएबसॉर्पशन) का पता लगाने के लिए किया जाता है

Read More

ओजीडी - ओसोफेगो-गैस्ट्रो डुओडेनोस्कोपी

ओजीडी या ओसोफेगो-गैस्ट्रो डुओडेनोस्कोपी आपकी ग्रासनली, जठर और ग्रहणी के आस्तर की दृश्य परीक्षा होती है।

Read More

कोलोनोस्कोपी

कोलोनोस्कोपी एक ऐसी प्रक्रिया है जिसका उपयोग बड़ी आंत/बृहदान्त्र और मलाशय में किसी प्रकार के परिवर्तनों या असामान्यताओं का पता लगाने के लिए किया जाता है।

Read More

लिवर स्कैन

यह निदान प्रक्रिया किसी भी प्रकार की असामान्यताओं की पहचान करने के लिए यकृत और प्लीहा को निकट से देखने के लिए की जाती है। इस प्रक्रिया में रेडियोधर्मी डाई या कंट्रास्ट पदार्थ का उपयोग किया जाता है जिसे यकृत, प्लीहा और अस्थि मज्जा द्वारा अवशोषित किया जाता है। तब सघन रेडियोधर्मिता (हॉट स्पॉट) और न्यूनतम रेडियोधर्मिता (कोल्ड स्पॉट) की छवि का निर्माण करते…

Read More

मणिपाल हास्पिटल्स के गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट अत्यधिक विविधतापूर्ण क्षमताओं से संपन्न हैं, और उनकी असाधारण विशेषज्ञताओं के कारण रोगियों को, रोगों की जांच और उपचार करने के पाचन तंत्र और आसपास के ऊतकों पर कम से कम प्रभाव डालते हुए उपयोग की जाने वाली नवीनतम एंडोस्कोपिक प्रक्रियाओं जैसी नवीन सर्जरी और प्रथाओं का हिस्सा बनने का अवसर मिलता है, जो कुछ मामलों में, भारत में कहीं और उपलब्ध नहीं हैं। विभिन्न विषयों के विषद ज्ञान पर आधारित दृष्टिकोण का उपयोग करके पाचन तंत्र और यकृत की सभी प्रकार की समस्याओं के लिए विशिष्ट देखभाल प्रदान करते हुए, मणिपाल हास्पिटल के गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विज्ञान विभाग के अभ्यास के दायरे में रोबोटिक सर्जरी, न्यूनतम इनवेसिव एंडोस्कोपी, एसोफैगोगैस्ट्रोडोडोडेनोस्कोपी, कोलोनोस्कोपी, छोटी आंत्र की एंटरोस्कोपी और एंडोस्कोपिक अल्ट्रासोनोग्राफी और बाल चिकित्सा गैस्ट्रोएंटरोलॉजी को शामिल किया जाता है।

Facilities & Services

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विज्ञान में अत्याधुनिक तकनीकों और प्रथाओं का उपयोग करते हुए मणिपाल हास्पिटल राज्य में सभी प्रकार के गैस्ट्रो और हेपेटिक विकार जैसे तीव्र यकृत विफलता, एपेंडिसाइटिस, पित्त नली की पथरी, बाइल रिफ्लैक्स, सीलिएक रोग, क्रोनिक अग्नाशयशोथ, सिरोसिस, क्लोस्ट्रीडियम डिफिसाइल संक्रमण, कब्ज, क्रोहन रोग, डायवर्टिकुलर रोग, डायवर्टीकुलिटिस, डिस्फेजिया, एंडोस्कोपिक सबम्यूकोसल डिसेक्शन, एंडोस्कोपिक अल्ट्रासाउंड, बढ़ी हुई प्लीहा, इसोफेजियल कैंसर, इसोफेजियल गतिशीलता अध्ययन, इसोफेजियल अल्सर, इसोफेजियल वेरिस, इसोफेजियल वेरिसेस , एसोफैगाइटिस (आंत्रशोथ), फेकल इनकोंटिनेंस (मलत्याग संबंधी असंयति), गैस्ट्रोएंटराइटिस गैस्ट्रोसोफेजियल रिफ्लैक्स, जिआर्डियासिस, गिल्बर्ट्स सिंड्रोम, दिल में जलन, हैमरोइड (बवासीर), अपच, इरीटेबल बाउल सिंड्रोम, लैक्टोज इन्टोलरेंस, लिम्फोसाईटिक कोलाइटिस, मेसेन्टेरिक इस्किमिया, माइक्रोस्कोपिक कोलाइटिस, अग्नाशय के अल्सर, अग्नाशयशोथ, पोएम, यात्रा के दौरान होने वाले दस्त, अल्सरेटिव कोलाइटिस, वायरल हेपेटाइटिस, इन्फ्लैमेटरी बाउल डिसीज  (आईबीडी) के लिए सबसे व्यापक केयरटेकर रहा है।

FAQ's

Your first visit will allow your gastroenterologist to evaluate your symptoms. As part of that consultation, your gastroenterologist in Bangalore may request additional tests or procedures, such as blood tests, imaging studies, or endoscopic examinations for diagnosis or treatment.

पाचन संबंधी रोग हताशाजनक और चिंतित कर देने वाले हो सकते हैं, और इनसे जीवन की गुणवत्ता को कम हो जाती है। मणिपाल हास्पिटल वर्तमान में उपलब्ध कम से कम इनवेसिव, सबसे उपयुक्त और उन्नत उपचार देकर आपको शीघ्र स्वस्थ करने के लिए तैयार रहते हैं। पाचन और लीवर की समस्याओं के बारे में अधिक जानकारी पाने के लिए हमसे संपर्क करें और आज ही हमारे किसी गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विशेषज्ञ से अपॉइंटमेंट बुक करें।

Blogs

Homecare icon अपॉइंटमेंट
Homecare icon स्वास्थ्य जांच
Homecare icon होम केयर
हमसे संपर्क करें
सीओओ को लिखें
review icon हमारी समीक्षा करें
हमें कॉल करें