रीढ़ की देखभाल


रीढ़ का निर्माण एक दूसरे के ऊपर लगी हुई 33 अलग-अलग कशेरुकी अस्थियों से मिलकर होता है और दो अलग-अलग कशेरुकी अस्थियों के बीच एक मध्यवर्ती इंटरवर्टेब्रल डिस्क होती है। रीढ़ शरीर को मुख्य सहारा प्रदान करती है, जिससे हम मेरुरज्जु को कोई चोट पहुँचाए बिना सीधे खड़े होने, झुकने और मुड़ने के कार्य कर पाते हैं। साथ ही साथ, मजबूत मांसपेशियों और अस्थियों, लचीली कण्डराओं और स्नायुबंधनों और संवेदनशील तंत्रिकाओं से मिलकर स्वस्थ रीढ़ का निर्माण होता है।

OUR STORY

Know About Us

Why Manipal?

मणिपाल हॉस्पिटल दिल्ली का सबसे अच्छा स्पाइन हॉस्पिटल है जिसका उद्देश्य, सबसे सरल स्पाइन पैथोलॉजी से लेकर रीढ़ की सबसे जटिल विकृति जैसे रीढ़ के सभी रोगों और ट्यूमर हेतु और आघात सर्जरी जैसे उपचार करने के लिए समर्पित विभाग का विकास करना है।

मणिपाल हॉस्पिटल द्वारका में नवीनतम तकनीक की समुचित व्यवस्था है और किसी भी समय रीढ़ की आपातकालीन सर्जरी करने के लिए तैयार रहने वाले 24/7 उपचार प्रदान करने के इच्छुक समर्पित रीढ़ विशेषज्ञों की टीम है।

मणिपाल हॉस्पिटल दिल्ली का सबसे अच्छा स्पाइन हॉस्पिटल है जो अपनी नैतिक प्रथा के लिए जाना जाता है और अपने रोगियों को सर्वोत्तम संभव देखभाल प्रदान करने के लिए बहु-अनुशासनात्मक दृष्टिकोण अपनाने में विश्वास रखता है।

मणिपाल हॉस्पिटल दिल्ली का सबसे अच्छा स्पाइन सर्जरी हॉस्पिटल है जहाँ ऑपरेशन के लिए, ऑपरेशन के बाद की स्थितियों के लिए और आईसीयू उपचार के लिए विश्व स्तरीय इन-हाउस मल्टीस्पेशलिटी सपोर्ट की व्यवस्था है। रोगी की सुरक्षा पर हम सर्वोच्च प्राथमिकता देते हैं और नियमित रूप से इंट्राऑपरेटिव रीयल-टाइम न्यूरल मॉनिटरिंग का उपयोग करते हैं जो विकृति सुधार और ट्यूमर विघटन और पुनर्निर्माण जैसी जटिल स्पाइनल सर्जरी के दौरान पक्षाघात और तंत्रिकाओं को क्षति होने से रोकने में सहायक सिद्ध होने वाली परिष्कृत तकनीक है।

Treatment & Procedures

पिंच्ड नर्व्स ट्रीटमेंट

इस स्थिति के लिए उपचार तंत्रिका संपीड़न के कारण और गंभीरता पर निर्भर करता है। दबी हुई नसों का उपचार आमतौर पर फिजियोथेरेपी, स्टेरॉयड (एनएसएआईडी, कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स, आदि) से किया जाता है। हालांकि, कुछ मामलों में, नसों के साथ हस्तक्षेप करने वाले निशान ऊतक या किसी अन्य अवरोधक सामग्री को हटाने के लिए आर्थोपेडिक सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

Read More

स्पाइनल स्थिरीकरण

स्पाइनल स्थिरीकरण स्पाइनल स्थिरीकरण – पश्चभाग/अग्रभाग/संयुक्त‘डायनामिक लम्बर स्पाइन स्टेबिलाइज़ेशन’ ऐसी शल्य चिकित्सा तकनीक है जिसमें पारंपरिक स्पाइनल फ्यूज़न सर्जरी की तुलना में रीढ़ में अधिक गतिशीलता संभव करने के लिए लचीले पदार्थों का उपयोग करके रीढ़ को स्थिर किया जाता है। मणिपाल हास्पिटल क्यों चुनें? हमारे स्पाइन सर्जन, सर्वोत्तम परिणामों के लिए बेहतर…

Read More

सर्वाइकल लैमिनोप्लास्टी

सर्वाइकल लैमिनोप्लास्टी सर्वाइकल लैमिनोप्लास्टी सर्वाइकल लैमिनोप्लास्टी ऐसी सर्जिकल तकनीक है जो गर्दन में मेरूरज्जु पर पड़ने वाले दबाव को हटाती है। अपक्षयी परिवर्तन, गठिया, बोन स्पर, डिस्क हर्नियेशन, ट्यूमर या फ्रैक्चर जैसे विभिन्न कारणों से मेरूरज्जु पर दबाव हो सकता है। मणिपाल हास्पिटल क्यों चुनें विभिन्न विषयों के जानकार न्यूरो विशेषज्ञों की हमाकी…

Read More

न्यूनतम इनवेसिव स्पाइनल स्थिरीकरण

न्यूनतम इनवेसिव स्पाइनल स्थिरीकरण जैसा कि नाम से पता चलता है, स्पाइन स्टेबलाइजेशन सर्जरी अब न्यूनतम इनवेसिव स्थिरीकरण प्रक्रियाओं का उपयोग करके की जा सकती है जो रोगियों को बैक-फ्यूजन करवाने के लिए शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने के साथ सुरक्षित और प्रभावी विकल्प प्रदान करती है। इसे आसपास की मांसपेशियों को काटे या क्षतिग्रस्त किए बिना छोटा सा चीरा…

Read More

स्पाइन ट्यूमर सर्जरी

स्पाइन ट्यूमर सर्जरी सौम्य या घातक ट्यूमर को हटाने के लिए, इसका आकार कम करना, और / या लगातार होने वाले पीठ या गर्दन के दर्द संतुलन की समस्याओं, चलने में कठिनाई, और आंत्र या मूत्राशय की शिथिलता से राहत पाने के लिए सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। रीढ़ के ट्यूमर के इलाज के लिए की जाने वाली सर्जरी के निम्नलिखित लक्ष्य होते हैं: o स्पाइनल ट्यूमर को हटाना,…

Read More

स्पाइनल फ्यूजन

दो कशेरुकाओं को जोड़ने के लिए उपयोग की जाने वाली सर्जिकल तकनीक। स्पाइनल फ्यूजन में इंस्ट्रुमेंटेशन के साथ या इंस्ट्रुमेंटेशन (जैसे, छड़, पेंच) के बिना बोन ग्राफ्ट का उपयोग किया गया हो सकता है। बोन ग्राफ्ट विभिन्न प्रकार के होते हैं, जैसे आपकी अपनी हड्डी (ऑटोग्राफ्ट) और दाता की हड्डी (अलोग्राफ़्ट)। फ्यूजन विभिन्न तरीकों से प्राप्त किया जा सकता है: o…

Read More

वर्टेब्रोप्लास्टी और काइफोप्लास्टी

वर्टेब्रोप्लास्टी और काइफोप्लास्टी कशेरुकीय संपीड़न फ्रैक्चर की समस्या से पीड़ित लोगों के उपचार के लिए न्यूनतम इनवेसिव प्रक्रियाएं। o वर्टेब्रोप्लास्टी में, खोखली सुई से पॉलीमेथाइलमेथैक्रिलेट नामक बोन सीमेंट को टूटी हुई हड्डी में सीधे इंजेक्ट किया जाता है। o जबकि काइफोप्लास्टी में, बोन सीमेंट इंजेक्ट किए जाने से पहले संकुचित कशेरुका को गुब्बारे की…

Read More

डिसेक्टॉमी

डिसेक्टॉमी एक सर्जिकल प्रक्रिया है, जिसमें रीढ़ या तंत्रिका मूल पर पड़ने वाले हर्नियेटेड डिस्क के दबाव को हटाया जाता या कम किया जाता है। निम्नलिखित विधियों का उपयोग करके सर्जरी की जा सकती है:

o खुली तकनीक या

o न्यूनतम इनवैसिव: माइक्रोडिस्केक्टॉमी (माइक्रोस्कोप का उपयोग करके) या एंडोस्कोपिक डिस्कोटॉमी।

Read More

लैमिनेटेक्टोमी / डीकंप्रेसन

रीढ़ नलिका (स्पाइनल कैनाल) में जगह बढ़ाने के लिए तथा नसों से दबाव दूर करने के लिए कशेरुका के पीछे की लैमिनाई कही जाने वाली अस्थिमय की पतली प्लेट को हटाए जाने की प्रक्रिया।

Read More

एंटीरियर सर्वाइकल डिस्कोटॉमी और…

एसीडीएफकई वर्षों से सर्वाइकल स्पाइन सर्जरी में स्वर्ण मानक रहा है। यह सुरक्षित, प्रभावी, करने में आसान है। इस प्रक्रिया में, पहले, क्षतिग्रस्त या हर्नियेटेड सर्वाइकल डिस्क को पूरी तरह से हटा दिया जाता है (डिस्केक्टोमी) ताकि नसों पर पड़ने वाला दवाब समाप्त हो जाए। फिर अस्थि के निर्माण (संलयन) को बढ़ावा देने के लिए एक बोन ग्राफ्ट को पिंजर के साथ या उसके…

Read More

सर्वाइकल डिस्क रिप्लेसमेंट

सरवाइकल डिस्क रिप्लेसमेंट को टोटल डिस्क आर्थ्रोप्लास्टी या प्रोस्थेटिक डिस्क रिप्लेसमेंट के रूप में भी जाना जाता है। इस प्रक्रिया में, क्षतिग्रस्त सरवाइकल डिस्क को हटा दिया जाता है और उसके स्थान पर धातु या पॉलिमर निर्मित कृत्रिम अंग लगा दिए जाते हैं। एसीडीएफ की तुलना में, डिस्क प्रतिस्थापन से गति बनी रहती है और नॉनयूनियन की जटिलता का जोखिम समाप्त हो…

Read More

रीढ़ की विकृति का सुधार

रीढ़ की विकृति, अस्थियों से बने कशेरुक-दंड का संरेखण या वक्रता असामान्य होन की समस्या होती है। रीढ़ में दो प्रकार की विकृति होती है: o स्कोलियोसिस (पार्श्वकुब्जता): स्कोलियोसिस रीढ़ की दाईं या बाईं और होने वाली असामान्य वक्रता होती है। इसे 'क्रुक्ड स्पाइन’ की स्थिति के रूप में भी जाना जाता है। o कायफोसिस (कुब्जता): रीढ़ का वक्र होकर अत्यधिक बाहर की…

Read More

वयस्कों में रीढ़ की विकृति

वयस्कों में रीढ़ से जुड़ी विकृति शरीर के पृष्ठ भाग में उम्र से संबंधित टूट-फूट, या पिछली सर्जरी से जटिलताओं के कारण होती है। हल्की विकृति तब होती है जब फैसिट जोड़ और डिस्क समय के साथ खराब हो जाते हैं और तब रीढ़ की सामान्य मुद्रा का समर्थन नहीं कर पाते हैं। रीढ़ की असामान्य वक्रता के कारण नहीं बल्कि तनावग्रस्त जोड़ों नसों के दबने के कारण दर्द पैदा होता…

Read More

पीडीऐट्रिक स्पाइनल सर्जरी

पीडीऐट्रिक स्पाइनल सर्जरी रीढ़ के रोग जैसे स्कोलियोसिस (रीढ़ का वक्र हो जाना), किफोसिस (रीढ़ के राउंडबैक का बढ़ना), स्पोंडिलोलिसिस (रीढ़ का स्ट्रैस फ्रेक्चर, और स्पोंडिलोलिस्थेसिस (रीढ़ के एक हिस्से का दूसरे हिस्से पर चढ़ जाना) बचपन के प्रारंभिक या बाद के वर्षों के दौरान बच्चों को प्रभावित कर सकता है। मणिपाल हास्पिटल क्यों चुनें? यद्यपि रीढ़ के अधिकांश…

Read More

स्पाइनल ओस्टियोटॉमी

स्पाइनल ओस्टियोटॉमी स्पाइनल ओस्टियोटॉमी ऐसी शल्य प्रक्रिया है जिसका उपयोग वयस्कों या बच्चों में होने वाली कुछ विकृतियों को ठीक करने के लिए किया जाता है। इनमें पोस्टीरियर कॉलम ओस्टियोटॉमी (पीसीओ), पेडिकल सबट्रेक्शन ओस्टियोटॉमी (पीएसओ) और वर्टेब्रल कॉलम रिसेक्शन (वीसीआर) शामिल हैं। मणिपाल हास्पिटल क्यों चुनें? रीढ़ के दर्द रहित कामकाज के लिए रीढ़ का…

Read More

डिस्केक्टॉमी

इसमें हर्नियेटेड डिस्क और अपक्षयी डिस्क रोग के उपचार के लिए एक या एक से अधिक डिस्क को हटाया जाता है या इसका उपयोग विभिन्न स्पाइनल फ्यूजन प्रक्रियाओं के साथ-साथ भी किया जाता है।

Read More

वर्टेब्रल बॉडी रिसेक्शन

वर्टेब्रल बॉडी रिसेक्शन (कॉर्पेक्टोमी) और रिकंस्ट्रक्शन वर्टेब्रल कॉलम रिसेक्शन प्रक्रिया रीढ़ की सबसे गंभीर विकृतियों के लिए ही की जाती है और इसमें कशेरुका और उसके पीछे के अंग-अवयवों जैसे लैमिना, ट्रांसवर्स प्रोसेस, और पसलियों सहित रीढ़ के खंडों को हटाया जाता है। मणिपाल हास्पिटल क्यों चुनें विभिन्न विषयों के जानकार न्यूरो और स्पाइन सर्जनों की हमारी…

Read More

स्पाइनल कॉलम रिकंस्ट्रक्शन

स्पाइनल कॉलम रिकंस्ट्रक्शन- पोस्टीरियर / एंटीरियर / संयुक्त स्पाइनल पुनर्निर्माण सर्जरी उन रोगियों के लिए आवश्यक हो सकती है जिनमें ऐसी विकृति या गलत विन्यास (मिस-अलाइनमेंट) होते हैं जिनसे रीढ़ का बड़ा हिस्सा प्रभावित होता हो। मणिपाल हास्पिटल क्यों चुनें स्पाइनल रिकंस्ट्रक्शन से उपचार किए जाने वाले सबसे आम रोग स्कोलियोसिस, स्पोंडिलोलिस्थीसिस और किफोसिस…

Read More

एंटीरियर इंटरबॉडी फ्यूजन

एंटीरियर इंटरबॉडी फ्यूजन (एएलआईएफ) एंटीरियर लम्बर इंटरबॉडी फ्यूजन (एएलआईएफ) स्पाइन सर्जरी का ऐसा प्रकार है जिसमें दो पास-पास स्थित लम्बर कशेरुकाओं के बीच से डिस्क या हड्डी के पदार्थ को हटाने के लिए शरीर के सामने के भाग से रीढ़ तक पहुँचा जाता है। इस प्रक्रिया को या तो खुली सर्जरी के रूप में या न्यूनतम इनवेसिव तकनीकों का उपयोग करके किया जा सकता है। मणिपाल…

Read More

माइक्रोडिसेक्टोमी एंडोस्कोपिक…

माइक्रोडिसेक्टोमी एंडोस्कोपिक डिस्केक्टॉमी डिस्केक्टॉमी अत्याधुनिक, न्यूनतम इनवेसिव प्रक्रिया है जो डिस्क हर्नियेशन (कटिस्नायुशूल) के कारण होने वाले दर्द को कम करने के लिए प्रसिद्ध है। इसे माइक्रोलम्बर डिस्केक्टॉमी (एमएलडी) भी कहा जाता है, यह उन्नत प्रक्रिया है जिसमें इंटरवर्टेब्रल डिस्क का हर्नियेटेड या बाहर निकला हुआ वह हिस्सा जो मेरुरज्जु को दबा…

Read More

पोस्टीरियर और ट्रांसफोरामिनल लम्बर…

पोस्टीरियर और ट्रांसफोरामिनल लम्बर इंटरबॉडी फ्यूजन (पीएलआईएफ / टीएलआईएफ) मिनिमली इनवेसिव ट्रांसफोरामिनल लम्बर इंटरबॉडी फ्यूजन (टीएलआईएफ) और पोस्टीरियर लम्बर इंटरबॉडी फ्यूजन (पीएलआईएफ) का उद्देश्य आपके पीठ दर्द के कारणों का निवारण करना और आपकी दो या दो से अधिक कशेरुकाओं को आपस में फ्यूज करके रीढ़ को स्थिर रखना है। मणिपाल हास्पिटल क्यों चुनें प्रशिक्षित…

Read More

पोस्टेरो लेटरल स्पाइनल फ्यूजन…

पोस्टरो-लेटरल स्पाइनल फ्यूजन (पीएलएफ) पोस्टेरोलेटरल लम्बर फ्यूजन, रीढ़ की सर्जरी है जिसमें डिस्क का स्थान अछूता रखते हुए रीढ़ के पीछे या पीछे के भाग में स्थित अंग-अवयवों के बीच बोन ग्राफ्ट रखा जाता है। यह प्रक्रिया न्यूनतम इनवेसिव सर्जिकल तकनीकों का उपयोग करके की जा सकती है। मणिपाल हास्पिटल क्यों चुनें? यह प्रक्रिया करने के लिए हमारे न्यूरोसर्जनों…

Read More

कृत्रिम डिस्क प्रतिस्थापन

कृत्रिम डिस्क प्रतिस्थापन डिस्क, रीढ़ की अलग-अलग अस्थियों अर्थात् कशेरुकाओं के बीच स्थित होने वाली कोमल कुशनिंग संरचना होती है। यह कार्टिलेज जैसे ऊतक से बनी होती है। ज्यादातर मामलों में, डिस्क इतनी लचीली होती है कि झुक सके। कृत्रिम डिस्क (जिसे डिस्क रिप्लेसमेंट, डिस्क प्रोस्थेसिस या स्पाइन आर्थ्रोप्लास्टी डिवाइस भी कहा जाता है) ऐसा उपकरण है जिसे भार…

Read More

पेडियाट्रिक कार्डियोलॉजी ट्रीटमेंट्स

भ्रूण इकोकार्डियोग्राम यह जानना कि आपके गर्भ में बच्चा सामान्य रूप से और सुरक्षित रूप से बढ़ रहा है, एक होने वाली मां के लिए सबसे खुशी की स्थितियों में से एक है। आपके और आपके बच्चे के लिए नियमित परीक्षण यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि सब कुछ ठीक चल रहा है। यदि आपके स्त्री रोग विशेषज्ञ को भ्रूण में असामान्य हृदय गति या किसी अन्य स्थिति का पता चलता है, तो…

Read More

काइफोप्लास्टी

काइफोप्लास्टी काइफोप्लास्टी क्या है? काइफोप्लास्टी, स्पाइनल कम्प्रेशन फ्रैक्चर के उपचार के लिए न्यूनतम इनवेसिव प्रक्रिया है। स्पाइनल कम्प्रेशन फ्रैक्चर आमतौर पर ऑस्टियोपोरोसिस के कारण होता है जिसके कारण कशेरुका की संरचना भंग हो जाता है जिससे गंभीर दर्द और गतिशीलता की हानि की स्थिति पैदा हो जाती है। इस प्रक्रिया के दौरान खंडित रीढ़ (कशेरुका) में बोन-सीमेंट…

Read More

.

Facilities & Services

सुविधाएं और सेवाएं

मणिपाल हास्पिटल्स के रीढ़ उपचार में उपचार किए जाने वाले रोगों में शामिल हैं, 

1. बिना ऑपरेशन किए गर्दन और पीठ दर्द का उपचार 

2. आरएफए सहित सभी प्रकार के स्पाइनल इंजेक्शन

3. माइक्रोडिसेक्टोमी और स्पाइनल डीकंप्रेसन 

4. एंडोस्कोपिक सर्जरी 

5. न्यूनतम इनवेसिव सर्जरी – पीएलआईएफ, टीएलआईएफ, ओएलआईएफ

6. आर्टिफिशियल डिस्क रिप्लेसमेंट

7. स्पाइनल फ्रैक्चर और ट्रॉमा का 24X7 उपचार

8. ऑस्टियोपोरोटिक फ्रैक्चर के लिए वर्टेब्रोप्लास्टी और काइफोप्लास्टी प्रक्रियाएं 

9. मेरुरज्जु को हुई हानि के लिए स्टेम सेल थेरेपी 

10. स्कोलियोसिस और कयफोसिस उपचार - प्रमुख सुधारात्मक सर्जरी के लिए ब्रेसिंग 

11. रीढ़ के जन्मजात दोषों और विकृतियों का उपचार

12. रीढ़ में संक्रमण का उपचार

13. रीढ़ संबंधी और मेरुरज्जु के ट्यूमरों का उपचार

FAQ's

You may be in the hospital for 1 to 3 days; longer if you have spinal fusion. Rest is important. But doctors at the best spine hospital in Delhi want you out of bed as soon as possible. Most people start physical therapy within 24 hours.

Blogs

Call Us