लॅप्रोस्कोपिक सर्जरी


लेप्रोस्कोपी एक सेब से कम चिरफाड़-युक्त, की-होल नैदानिक प्रक्रिया है जिससे एक सर्जन आपके शरीर के अंदर के अंगों का निरीक्षण कर सकता है - एक ओपन सर्जरी किए बिना। एक पतली, लंबी ट्यूब जो की छोटासे प्रकाश और टिप पर एक हाय-डेफ़िनिशन कैमरा से सुसज्जित होती है, पेट गुहा की छवियों को कैप्चर करने के लिए एक छोटे चीरे या एक पोर्ट से शरीर में अंदर डाली जाती है। कैप्चर की हुई छवियों को ऑपरेटिंग रूम में उच्च-रिज़ॉल्यूशन मॉनिटर में ट्रैन्स्मिट किया जाता है - जो सर्जन को एक पारंपरिक ओपन सर्जरी के समान ऑपरेशन करने देता है, लेकिन छोटे चीरें करके।

OUR STORY

Know About Us

Why Manipal?

मणिपाल हॉस्पिटल दिल्ली में सबसे अच्छा लॅप्रोस्कोपिक सर्जरी हॉस्पिटल है जो पेट और पेल्विक भागों की सरल और जटिल स्थितियों के लिए नैदानिक और चिकित्सीय लॅप्रोस्कोपिक सेवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला उपलब्ध कराता है।हमारे पास दिल्ली में सबसे अच्छे लॅप्रोस्कोपिक सर्जन है जो पारंपरिक और उन्नत तकनीकों जैसे रोबोट- असिस्टेड प्रक्रियाओं में माहिर हैं।हमारे अत्याधुनिक नैदानिक उपकरणों और कुशल स्वास्थ्य देखभाल कर्मचारियों के साथ, हम अपने मरीजों को पीड़ामुक्त, सुविधापूर्ण, बिना दाग के, कम खतरा और तेजी से ठीक होने, सब से कम चिरफाड़-युक्त सर्जिकल प्रक्रियाएं प्रदान करने का लक्ष्य रखते हैं। उच्च सफलता दर के साथ लॅप्रोस्कोपिक सर्जरी करने में प्रवर्तक हमारे पास कुशल इंटेनसिविस्ट और नर्सिंग स्टाफ के साथ एक मजबूत इंटेनसिव केयर यूनिट (आई.सी.यू) है।

Treatment & Procedures

लॅप्रोस्कोपिक कोलेसिस्टेक्टोमी

गॉल ब्लैडर को निकालना एक सामान्य प्रक्रिया है जो लॅप्रोस्कोपिक सर्जरी के माध्यम से सबसे अच्छे तरीके से किया जाता है। मामले का स्वरूप और लॅप्रोस्कोपिक उपकरणों के अनुसार, 0.5 से 1 सेंमी वाली 4 चीरें एक कोलेसिस्टेक्टोमी करने के लिए बनाया जाती है। लॅप्रोस्कोपिक उपकरण तब सर्जन को गॉल ब्लैडर का निकास करने और इसे छोटे चीरे के माध्यम से निकालने देता है। ये…

Read More

लॅप्रोस्कोपिक हर्निया रिपेयर

लॅप्रोस्कोपिक हर्निया रिपेयर एक सब से कम चिरफाड़-युक्तप्र क्रिया है, जिसका उपयोग हर्निया के सुधार के लिए किया जाता है। एक हर्निया तब होता है जब आंतों सहित एक अंग का एक छोटासा हिस्सा, पेट के भाग में एक असामान्य उभार पैदा करता है। एक हर्निया सुधार का संकेत दिया जाता है यदि: o हर्निया दर्द और असुविधा पैदा कर रहा है o यह आपकी सामान्य दिनचर्या की गतिविधियों…

Read More

लॅप्रोस्कोपिक एपेंडेक्टोमी - एक…

लॅप्रोस्कोपिक एपेंडेक्टोमी - सूजे हुए एपेंडिक्स को निकालना आपका एपेंडिक्स एक संकीर्ण ट्यूबलर उंगली के आकार का अंग है जो आपके पेट के निचले दाईं ओर आंतों से जुड़ा होता है। इसमें बैक्टीरिया रहते है। जब एपेंडिक्स अवरुद्ध हो जाता है, तो इसमें सूजन हो जाती है और इसके परिणामस्वरूप एपेंडिसाइटिस होता है। एक फटे हुए एपेंडिक्स की वजह से जान को खतरा पैदा करने…

Read More

लॅप्रोस्कोपिक कोलेक्टॉमी और स्प्लिनेक्टॉमी

कोलेक्टॉमी एक प्रक्रिया है जिसका उपयोग आपके कोलोन/बड़ी आंत को निकालने के लिए किया जाता है। कई प्रकार की कोलेक्टोमी प्रक्रियाएं है जिनमें इनका समावेश है: o टोटल कोलेक्टॉमी (पूरे कोलोन को निकाल दिया जाता है) o पार्शियल कोलेक्टॉमी (कोलोन को आंशिक रूप से निकाल दिया जाता है) o हेमीकोलेक्टोमी (कोलोन के बाएं या दाएं हिस्से को निकाल दिया जाता है) o प्रोक्टोकोलेक्टॉमी…

Read More

लॅप्रोस्कोपिक कोलेसिस्टेक्टोमी…

लॅप्रोस्कोपिक कोलेसिस्टेक्टोमी - गॉल स्टोन्स का इलाज करने के लिए गॉल ब्लैडर को निकालना आपके गॉल ब्लैडर को निकालने की आवश्यकता होगी यदि इसमें गॉल स्टोन्स जटिलताओं का कारण बनते है। गॉल स्टोन्स की उपस्थिति को कोलेलिथियासिस कहा जाता है। डॉक्टर इस प्रकार की सर्जरी की भी सिफारिश कर सकते हैं यदि आपको हुआ है - गॉल ब्लैडर डिस्कैनेसिया, जो तब होता है जब गॉल…

Read More

.

Facilities & Services

ऑबस्टेट्रिक्स और गायनेकोलॉजी (ओ.बी.जी)

महिलाओं की प्रजनन प्रणाली और यूरिनरी ट्रॅक्ट से संबंधित लॅप्रोस्कोपिक प्रक्रियाओं में इनका समावेश है:

लॅप मायोमेक्टोमी (फाइब्रॉएड को निकालना): लॅप्रोस्कोपिक मायोमेक्टॉमी गर्भाशय के फाइब्रॉएड (लीओमायोमास) को निकालने के लिए अनुशंसित एक सब से कम चिरफाड़-युक्त उन्नत सर्जिकल प्रक्रिया है। गर्भाशय के फाइब्रॉएड गर्भाशय में गैर-कैंसर फोड़े है जो किसी भी उम्र में तयार हो सकते है, लेकिन बच्चे पैदा करने के वर्षों के दौरान अधिक सामान्य होते है। इस प्रक्रिया में आपके निचले पेट की जगह में छोटे चीरें करना और फाइब्रॉएड के कारण के लक्षणों को निकालने के लिए लैप्रोस्कोपी का उपयोग का समावेश है

  • टोटल लॅप्रोस्कोपिक हिस्टेरेक्टॉमी (टी.एल.एच)
  • वंध्यीकरण
  • लॅप्रोस्कोपिक सैकरल कोलपोपेक्सी (पेल्विक प्रोलैप्स का सुधार)
  • एंडोमेट्रियोसिस
  • एडेनोमायोसिस
  • जन्मजात विसंगतियाँ
  • ओवेरीयन ट्यूमर
  • ट्यूबल रिकंस्ट्रक्शन सर्जरी

एक्टोपिक गर्भधारणा: एक एक्टोपिक गर्भधारणा या ट्यूबल गर्भधारणा एक ऐसी गर्भावस्था है जो सामान्य रूप से फैलोपियन ट्यूब में होती है और गर्भाशय के भीतर नहीं। सैलपिंगोस्टॉमी और साल्पिंगेक्टोमी सहित लॅप्रोस्कोपिक सर्जरी का उपयोग सामान्य रूप से एक्टोपिक गर्भधारणा के उपचार के लिए किया जाता है।

  • गर्भाशय के कैंसर
  • ओवेरीयन कैंसर
  • प्रजनन क्षमता बढ़ाने वाली सर्जरी
  • अंतर्गर्भाशयी मायोमा
  • अंतर्गर्भाशयी सेप्टम
  • गर्भाशय सिनेशिया
  • ट्यूबल ओपनिंग सर्जरी

बाल चिकित्सा (पेडिएट्रिक)

नवजात शिशुओं और बच्चों में लॅप्रोस्कोपिक प्रक्रियाओं को छोटे और अधिक नाजुक उपकरणों का उपयोग करके सुरक्षित रूप से किया जाता है जिस वजह से कम से कम पीड़ा होती है और जल्द से जल्द ठीक होते है। कुछ प्रक्रियाओं में इनका समावेश है:

  • पेट के सिस्ट का उच्छेदन
  • अक्यूट एपेंडिसाइटिस
  • कॉनजेनायटल डायाफ्रामिक हर्निया रिपेयर : कॉनजेनायटल डायाफ्रामिक हर्निया रिपेयर (सी.डी.एच) तब होता है जब डायाफ्राम में एक छेद या खुली जगह से पेट, आंतों और / या यकृत जैसे अंग छाती में फैलते है, जिससे फेफड़ों के विकास में बाधा आती है। यह एक जानलेवा स्थिती है और लॅप्रोस्कोपिक सर्जरी द्वारा इसमें सुधार किया जा सकता है।
  • फंडोप्लिकेशन
  • गॉल ब्लैडर सर्जरी
  • हर्निया रिपेयर
  • लॅप्रोस्कोपिक पुल थ्रू
  • मालरोटेशन

ऑर्किडोपेक्सी: ऑर्किडोपेक्सी एक सर्जिकल प्रक्रिया है जिसे एक सब से कम चिरफाड़-युक्त लॅप्रोस्कोपिक दृष्टिकोण का उपयोग करके किया जा सकता है ताकि शल्य चिकित्सा से अंडकोश की थैली में उतरे वीर्यकोष को स्थानांतरित किया जा सके।

  • पाइलोरिक स्टेनोसिस
  • वीडियो-असिस्टेड थोराकोस्कोपिक सर्जरी (वाट्स) एम्पाइमा चेस्ट, फेफड़ों की बायोप्सी, छाती के ट्यूमर और सिस्ट के लिए
  • पाइलोप्लास्टी, यूरेटरिक रीइंप्लांटेशन के रूप में पेडिएट्रिक यूरोलॉजी

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल (जी. आई) सर्जरी

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल लॅप्रोस्कोपिक प्रक्रियाएं एक उन्नत सर्जिकल तकनीक है जिसमें पेट में छोटे चीरें (3-5 मिमी के आकार के) या नाभि में एक चीरे (सिंगल इनसीजन लॅप्रोस्कोपिक सर्जरी) का समावेश है - जो सर्जन को एक लॅपरोस्कोप की मदद से जी.आई ट्रैक्ट से संबंधित समस्याओं का इलाज करने देता है। दिल्ली में लॅप्रोस्कोपिक सर्जन नियमित रूप से यह करते है:

  • लॅप कोलेसिस्टेक्टॉमी
  • स्टोन्स की बीमारी के लिए बाइल डक्ट का परीक्षण
  • लॅप एपेंडिसेक्टॉमी
  • हर्निया रिपेयर
  • कैंसर के लिए कोलोरेक्टल रिसेक्शन: प्रारंभिक स्थिति के कोलोन कैंसर का ज्यादातर सर्जरी द्वारा उपचार किया जाता है। लॅप्रोस्कोपिक-असिस्टेड कोलेक्टॉमी कोलोन और लिम्फ नोड्स के प्रभावित हिस्से को निकालने के लिए की जाती है।
  • लीवर के सिस्टिक रोग
  • छोटे बॉवेल की सर्जरी
  • अचलासिया कार्डिया के लिए मायोटॉमी: अचलासिया कार्डिया एक असामान्य स्थिती है जो अन्न को इसोफेगस (अन्न नलिका) से पेट में आगे जाना 
  • मुश्किल बनाती है। मायोटोमी एक सर्जिकल प्रक्रिया है जिसमें पेट में भोजन आसानी से पहुँचने देने के लिए इसोफेगल स्फिंक्टर को ढीला करने के लिए इसोफेगस की मांसपेशियों का विभाजन करने का समावेश है।
  • लॅप स्प्लेनेक्टॉमी
  • सिस्टो-गैस्ट्रोस्टोमी
  • लॅप बैरिएट्रिक सर्जरी

जनरल सर्जरी

लॅप्रोस्कोपिक और रोबोटिक सर्जरी: जबकि लॅप्रोस्कोपिक सर्जरी एक लॅप्रोस्को का उपयोग करके एक सर्जन करता है, रोबोटिक सर्जरी कंप्यूटर कंसोल का उपयोग करके की जाती है। रोबोटिक सर्जरी में एक कैमरा आर्म और एक अन्य आर्म (मैकेनिकल आर्म) शामिल होता है जिससे सर्जिकल उपकरण जुड़े होते है। रोबोट- असिस्टेड सर्जरी बढ़ी हुई दृष्टि, नियंत्रण और परिशुद्धता के साथ एक 3डी एचडी दृश्य प्रदान करती है। चीरें छोटे होने की कारण संक्रमण की संभावना बहुत ही कम होती है, जिस वजह से मरीज जल्दी से ठीक होते है। कुछ सामान्य सर्जरी जो आमतौर पर लॅप्रोस्कोपिक या रोबोटिक के माध्यम से की जाती है, उनमें इनका समावेश है:

  • एपेंडिक्स
  • अचलासिया कार्डिया
  • गॉल ब्लैडर स्टोन्स
  • गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कैंसर (इसोफेगल, गैस्ट्रिक, कोलोरेक्टल, पैंक्रियाटिक, आदि)
  • हियाट्स हर्निया: हियाट्स हर्निया एक ऐसी स्थिती है जब आपका पेट आपके डायाफ्राम (हियाट्स) में से एक खुली जगह से ऊपर आता है।
  • सरल से लेकर जटिल हर्निया: एक सरल या बेसिक हर्निया एक पेट के खुली जगह से एक अंग का उभड़ना होता है। एक बेसिक हर्निया एक जटिल हर्निया में बदल सकता है जब पेट के खुली जगह को बंद करने के लिए दोहराए गए सर्जिकल प्रयास असफल हो जाते है।
  • रेक्टम प्रोलैप्स
  • स्प्लिनेक्टॉमी  
  • स्टेपल्ड हेमोरर्होइडेक्टोमी  
  • आघात और आपातकालीन सर्जरी

FAQ's

Yes. Laparoscopic surgeries are as safe as traditional open surgeries in children — with the advantage of tiny incisions and scars, minimal pain and speedy recovery. 

 

The most common conditions treated using laparoscopic procedures include gallbladder stones, appendectomy, cysts, or hernias etc.

Laparoscopic surgeries have many benefits, including:

  • Less post-operative pain

  • Less blood loss

  • Lower risk of infections

  • Shorter hospital stay

  • Speedy recovery

  • Smaller incision

  • No scarring

To know more, arrive at the laparoscopy surgery hospital in Dwarka, Delhi.

Obese patients have lost weight significantly through bariatric surgery. According to a study, bariatric surgery helps patient lose about 30-50% of their excess weight in the first 6 months, and 77% in 12 months after surgery at the best laparoscopy surgery hospital in Dwarka, Delhi.

Laparoscopy is usually done as an outpatient procedure. This means that you'll be able to go home on the same day as your surgery. It may be performed in a hospital or an outpatient surgical center. You'll likely be given general anesthesia for this type of surgery. Get the best treatment at the top laparoscopy surgery hospital in Dwarka, Delhi.

Blogs

Call Us