कार्डियोथोरेसिक वैस्कुलर सर्जरी


हृदय की कुछ समस्याओं की व्यवस्था जीवनशैली में बदलाव करके और दवाओं से किया जा सकता है, जबकि अन्य जैसे हृदय के अवरोध और प्रमुख रक्त वाहिकाओं में दोष के लिए सर्जरी की आवश्यकता होती है। चिकित्सा की इस विशेषता को कार्डियो-थोरैसिक व वैस्कुलर सर्जरी (सीटीवीएस) के रूप में जाना जाता है। सीटीवीएस का उपयोग हृदय, फेफड़े और छाती से जुड़े विकारों की व्यवस्था के लिए किया जाता है। कार्डियोथोरेसिक सर्जरी मुख्य रूप से अवरुद्ध कोरोनरी धमनियों को खोलने, हृदय की लय की समस्याओं को ठीक करने, या हृदय दोष या कमजोर हृदय की मांसपेशियों को सुधारने में सहायता करती है। दूसरी ओर, संवहनी सर्जरी, रक्त वाहिका विकारों से संबंधित है, जैसे कि लसीका वाहिकाओं, नसों और धमनियों के रोग। यह रक्त वाहिकाओं के नेटवर्क में सुधार और व्यवस्था में मदद करता है। संवहनी सर्जरी में रक्त प्रवाह का मार्ग परिवर्तन भी शामिल हो सकता है।

OUR STORY

Know About Us

Why Manipal?

16 अक्टूबर 2018 को स्थापित सीटीवीएस हमारे अस्पताल की महत्वपूर्ण सर्जरी इकाइयों में से एक है। इस डिवीजन ने कोरोनरी धमनी बाईपास से लेकर एओर्टिक एन्यरिज़म के सुधार तक, संवहनी और हृदय विकारों के सर्जिकल उपचार के विभिन्न स्पेक्ट्रम को कवर करते हुए 560 से अधिक सफल सर्जरी में योगदान दिया है।

मणिपाल अस्पताल दिल्ली में कार्डियोथोरेसिक सर्जरी के लिए सबसे अच्छा अस्पताल है, जिसमें दिल्ली के अत्यधिक अनुभवी कार्डियोथोरेसिक सर्जन हैं जो पूर्ण स्पेक्ट्रम संवहनी और हृदय विकारों के निदान और उपचार प्रदान करने के लिए एकीकृत टीम की पद्धति का पालन करते हैं। सर्जन सबसे प्रभावी और उन्नत कार्डियक देखरेख के लिए कार्डियोलॉजिस्ट और अन्य स्वास्थ्य सेवा पेशेवरों के साथ मिलकर काम करते हैं।

हमारी इकाई अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित है और हृदय वाल्व के सुधार या बदलने के लिए न्यूनतम इनवेसिव पद्धति जैसे उन्नत उपचार का विकल्प प्रदान करती है।

हम, मणिपाल में, जीवन परिवर्तन करने वाले हृदय और संवहनी रोग का उपचार प्रदान करने के लिए व्यापक और उच्च गुणवत्ता वाली कार्डियोवास्कुलर देखभाल प्रदान करते हैं।

इसके अलावा, मणिपाल सीटीवीएस इकाई उपचार प्रदान करने के लिए उच्च स्तरीय उपकरण और अत्याधुनिक तकनीक सहित तैयार है। आईएबीपी, ईसीएमओ, और सीआरआरटी जैसे उपचार विकल्पों के साथ क्रिटिकल केयर विशेषज्ञों और गहन चिकित्सा विशेषज्ञों द्वारा भी हमारा सहयोग किया जाता है।

Treatment & Procedures

कोरोनरी आर्टरी बाईपास ग्राफ्ट…

कोरोनरी हृदय रोग या कोरोनरी धमनी रोग रक्त प्रवाह को अवरुद्ध करने वाली कोरोनरी धमनियों के अंदर प्लाक नामक मोमी पदार्थ के निर्माण का लक्षण है। कोरोनरी आर्टरी बायपास ग्राफ्ट सर्जरी/बाईपास सर्जरी/हार्ट बायपास सर्जरी की सिफारिश हार्ट अटैक जैसी आपात स्थितियों में की जाती है, ताकि कोरोनरी आर्टरी डिजीज के लक्षणों को कम किया जा सके, जिसमें सीने में दर्द, सांस…

Read More

हार्ट ट्रांसप्लांट/लेफ्ट वेंट्रिकुलर…

हार्ट ट्रांसप्लांट क्या है? हृदय प्रत्यारोपण एक प्रमुख प्रक्रिया है जिसका उपयोग रोगग्रस्त हृदय को निकालने और दाता से प्राप्त स्वस्थ हृदय को प्रत्यारोपित करने के लिए किया जाता है। पुरानी हृदय विफलता वाले रोगियों के लिए हृदय प्रत्यारोपण एकमात्र उपचार है और आमतौर पर तब विचार किया जाता है जब रोगी की स्थिति में दवाओं या अन्य प्रक्रियाओं से सुधार नहीं होता…

Read More

ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वाल्व रिप्लेसमेंट…

टीएवीआर क्या है? टीएवीआर को ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वाल्व इम्प्लांटेशन (टीएवीआई) भी कहा जाता है। टीएवीआर एक न्यूनतम चीर-फाड़ वाली प्रक्रिया है जिसमें रोगग्रस्त या क्षतिग्रस्त हृदय वाल्व के अंदर एक नया वाल्व रखना या सम्मिलित करना शामिल है। पुराने वाल्व को बरकरार रखा जाता है और हटाया नहीं जाता है। नए वाल्व को पुराने, क्षतिग्रस्त वाल्व के अंदर रखने के बाद,…

Read More

बेंटल प्रोसीजर

बेंटल प्रक्रिया क्या है? बेंटल प्रक्रिया एक कार्डियक प्रक्रिया है जिसे 1968 में एच बेंटल और ए डी बोनो द्वारा पेश किया गया था। यह एओर्टिक रूट, एओर्टिक वाल्व, या आरोही एओर्टिक रूट के घाव की मरम्मत या बदलने के लिए किया जाता है। एओर्टिक वाल्व और एओर्टिक रूट को बदलने के लिए एक समग्र एओर्टिक वाल्व ग्राफ्ट और आरोही महाधमनी ग्राफ्ट का उपयोग किया जाता है जिसे…

Read More

ਕੋਰੋਨਰੀ ਆਰਟਰੀ ਬਾਈਪਾਸ ਗ੍ਰਾਫਟ ਸਰਜਰੀ

ਕੋਰੋਨਰੀ ਦਿਲ ਦੀ ਬਿਮਾਰੀ ਜਾਂ ਕੋਰੋਨਰੀ ਧਮਣੀ ਦੀ ਬਿਮਾਰੀ ਦੇ ਵਿੱਚ ਕੋਰੋਨਰੀ ਧਮਣੀਆਂ ਦੇ ਵਿੱਚ ਵੈਕਸ ਵਰਗੇ ਪਦਾਰਥ ਦਾ ਜਮਾਅ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਜਿਸਨੂੰ ਪਲਾਕ ਕਿਹਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਜਿਸ ਨਾਲ ਖੂਨ ਦਾ ਪ੍ਰਵਾਹ ਬਲੌਕ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਐਮਰਜੇਂਸੀਆਂ ਦੇ ਵਿੱਚ ਕੋਰੋਨਰੀ ਆਰਟਰੀ ਬਾਈਪਾਸ ਗ੍ਰਾਫਟ ਸਰਜਰੀ/ਬਾਈਪਾਸ ਸਰਜਰੀ/ ਹਾਰਟ ਬਾਈਪਾਸ ਸਰਜਰੀ ਦ ਸਿਫਾਰਿਸ਼ ਕੀਤੀ ਜਾਂਦੀ ਹੈ ਜਿਵੇਂ ਕਿ ਦਿਲ ਦਾ ਦੌਰਾ, ਤਾਂ ਜੋ ਕੋਰੋਨਰੀ ਆਰਟਰੀ ਬਿਮਾਰੀ ਦੇ ਲੱਛਣਾਂ ਨੂੰ ਘਟਾਇਆ…

Read More

ਦਿਲ ਦਾ ਟਰਾਂਸਪਲਾਂਟ/ਲੇਫ਼੍ਟ ਵੈਂਟਰੀਕਲ…

ਦਿਲ ਦਾ ਟਰਾਂਸਪਲਾਂਟ ਕੀ ਹੈ? ਇੱਕ ਦਿਲ ਦਾ ਟਰਾਂਸਪਲਾਂਟ ਇੱਕ ਮੁੱਖ ਵਿਧੀ ਹੈ ਜਿਸ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਖਰਾਬ ਦਿਲ ਨੂੰ ਕੱਢ ਕੇ ਇੱਕ ਦਾਨੀ ਦੇ ਸਿਹਤਮੰਦ ਦਿਲ ਨੂੰ ਲਗਾਇਆ ਜਾਂਦਾਂ ਹੈ। ਕ੍ਰੋਨਿਕ ਹਾਰਟ ਫੇਲੀਅਰ ਤੋਂ ਪੀੜਿਤ ਮਰੀਜ਼ਾਂ ਦਾ ਇੱਕੋ ਇਲਾਜ ਦਿਲ ਦਾ ਟਰਾਂਸਪਲਾਂਟ ਹੈ ਅਤੇ ਇਹ ਉਦੋਂ ਕੀਤਾ ਜਾਂਦਾਂ ਹੈ ਜਦੋਂ ਮਰੀਜ਼ ਦੀ ਸਥਿਤੀ ਦਵਾਈਆਂ ਜਾਂ ਹੋਰ ਵਿਧੀਆਂ ਕਾਰਨ ਸੁਧਰਦੀ ਨਹੀਂ ਹੈ। ਹਾਲਾਂਕਿ, ਦਾਨੀਆਂ ਦੀ ਘਾਟ ਅਤੇ ਪ੍ਰਾਪ੍ਤਕਰਤਾਵਾਂ ਦੀ ਵੱਧਦੀ…

Read More

ਟ੍ਰਾਂਸਕੈਥੀਟਰ ਆਰਟਿਕ ਵਾਲਵ ਰੀਪਲੇਸਮੇਂਟ…

ਟੀ.ਏ.ਵੀ.ਆਰ. ਕੀ ਹੈ? ਟੀ.ਏ.ਵੀ.ਆਰ. ਨੂੰ ਟ੍ਰਾਂਸਕੈਥੀਟਰ ਆਰਟਿਕ ਵਾਲਵ ਇਮਪਲਾਂਟੇਸ਼ਨ (ਟੀ.ਏ.ਵੀ.ਆਈ) ਵੀ ਕਿਹਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਟੀ.ਏ.ਵੀ.ਆਰ. ਇੱਕ ਘੱਟੋ ਘੱਟ ਚੀਰ ਫਾੜ ਵਾਲੀ ਵਿਧੀ ਹੈ ਜਿਸ ਦੇ ਵਿੱਚ ਨਸ਼ਟ ਹੋਈ ਜਾਂ ਖਰਾਬ ਹਾਰਟ ਵਾਲਵ ਦੇ ਅੰਦਰ ਇੱਕ ਨਵੀਂ ਵਾਲਵ ਰੱਖਣਾ ਜਾਂ ਲਗਾਉਣਾ ਸ਼ਾਮਿਲ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਪੁਰਾਣੀ ਵਾਲਵ ਨੂੰ ਕਾਇਮ ਰੱਖਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਇਸਨੂੰ ਹਟਾਇਆ ਨਹੀਂ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਪੁਰਾਣੀ, ਖਰਾਬ ਵਾਲਵ ਦੇ ਵਿੱਚ ਨਵੀਂ ਵਾਲਵ ਨੂੰ ਰੱਖਣ…

Read More

ਬੈਂਟਲ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ

ਬੈਂਟਲ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਕੀ ਹੈ? ਬੈਂਟਲ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਇੱਕ ਦਿਲ ਦੀ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਹੈ ਜੋ 1968 ਵਿੱਚ ਐਚ ਬੈਂਟਲ ਅਤੇ ਏ ਡੀ ਬੋਨੋ ਦੁਆਰਾ ਸ਼ੁਰੂ ਕੀਤੀ ਗਈ ਸੀ। ਇਹ ਇੱਕ ਏਓਰਟਿਕ ਰੂਟ, ਐਓਰਟਿਕ ਵਾਲਵ, ਜਾਂ ਅਸੈਂਡਿੰਗ ਐਓਰਟਿਕ ਰੂਟ ਜਖਮ ਦੇ ਇਲਾਜ ਜਾਂ ਬਦਲਣ ਲਈ ਕੀਤੀ ਜਾਂਦੀ ਹੈ। ਇੱਕ ਕੰਪੋਜ਼ਿਟ ਏਓਰਟਿਕ ਵਾਲਵ ਗ੍ਰਾਫ਼ਟ ਅਤੇ ਅਸੈਂਡਿੰਗ ਏਓਰਟਿਕ ਗ੍ਰਾਫ਼ਟ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਏਓਰਟਿਕ ਵਾਲਵ ਅਤੇ ਏਓਰਟਿਕ ਰੂਟ ਨੂੰ ਬਦਲਣ ਲਈ ਕੀਤੀ ਜਾਂਦੀ ਹੈ ਜੋ ਬਾਅਦ ਵਿੱਚ…

Read More

हार्ट वाल्व रिपेयर एंड रिप्लेसमेंट

हृदय वाल्व की मरम्मत एक शल्य प्रक्रिया है जिसका उपयोग हृदय वाल्व के सामान्य कामकाज को बहाल करने के लिए किया जाता है। हमारे हृदय में चार वॉल्व होते हैं जैसे एओर्टिक वॉल्व, ट्राइकसपिड वॉल्व, माइट्रल वॉल्व और पल्मोनरी वॉल्व, जो रक्त को एक दिशा में प्रवाहित करते है और शुद्ध व अशुद्ध रक्त को मिलने से रोकते हैं। जब इनमें से एक या अधिक वाल्व ठीक से खुलते…

Read More

ਦਿਲ ਦੇ ਵਾਲਵ ਦੀ ਮੁਰੰਮਤ ਅਤੇ ਬਦਲਾਵ

ਦਿਲ ਦੇ ਵਾਲਵ ਦੀ ਮੁਰੰਮਤ ਇੱਕ ਸਰਜੀਕਲ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਹੈ ਜੋ ਦਿਲ ਦੇ ਵਾਲਵ ਦੇ ਆਮ ਕੰਮਕਾਜ ਨੂੰ ਬਹਾਲ ਕਰਨ ਲਈ ਵਰਤੀ ਜਾਂਦੀ ਹੈ। ਸਾਡੇ ਦਿਲ ਦੇ ਚਾਰ ਵਾਲਵ ਹਨ ਜਿਵੇਂ ਕਿ ਐਓਰਟਿਕ ਵਾਲਵ, ਟ੍ਰਾਈਕਸਪਿਡ ਵਾਲਵ, ਮਾਈਟਰਲ ਵਾਲਵ ਅਤੇ ਪਲਮਨਰੀ ਵਾਲਵ, ਜੋ ਖੂਨ ਨੂੰ ਇੱਕ ਦਿਸ਼ਾ ਵਿੱਚ ਵਹਿੰਦਾ ਰੱਖਦੇ ਹਨ ਅਤੇ ਸ਼ੁੱਧ ਅਤੇ ਅਸ਼ੁੱਧ ਖੂਨ ਦੇ ਮਿਸ਼ਰਣ ਨੂੰ ਰੋਕਦੇ ਹਨ। ਜਦੋਂ ਇਹਨਾਂ ਵਿੱਚੋਂ ਇੱਕ ਜਾਂ ਇੱਕ ਤੋਂ ਵੱਧ ਵਾਲਵ ਸਹੀ ਢੰਗ ਨਾਲ ਖੁੱਲ੍ਹਦੇ…

Read More

मिनिमली इनवेसिव कार्डिएक सर्जरी…

दिल की कई स्थितियों के इलाज के लिए मिनिमली इनवेसिव कार्डियक / हार्ट सर्जरी की सिफारिश की जाती है, जिसमें शामिल हैं: o वाल्व की मरम्मत या प्रतिस्थापन o कोरोनरी धमनी बाईपास o कार्डिएक ट्यूमर हटाना o एट्रियल फिब्रिलेशन के लिए मेज़ प्रक्रिया o सेप्टल दोष सर्जरी o हृदय के जन्म दोष ओपन-हार्ट सर्जरी के मामले में यह प्रक्रिया एक बड़े चीरे की तुलना में हृदय…

Read More

ਨਿਊਨਤਮ ਚੀਰ ਫਾੜ ਵਾਲੀ ਕਾਰਡਿਅਕ ਸਰਜਰੀ…

ਦਿਲ ਦੀਆਂ ਕਈ ਸਮੱਸਿਆਵਾਂ ਦੇ ਇਲਾਜ ਲਈ ਘੱਟੋ-ਘੱਟ ਚੀਰ ਫਾੜ ਵਾਲੀ ਕਾਰਡੀਆਕ / ਦਿਲ ਦੀ ਸਰਜਰੀ ਦੀ ਸਿਫਾਰਸ਼ ਕੀਤੀ ਜਾਂਦੀ ਹੈ ਜਿਸ ਵਿੱਚ ਸ਼ਾਮਲ ਹਨ: o ਵਾਲਵ ਦੀ ਮੁਰੰਮਤ ਜਾਂ ਬਦਲੀ o ਕੋਰੋਨਰੀ ਆਰਟਰੀ ਬਾਈਪਾਸ o ਦਿਲ ਦੇ ਟਿਊਮਰ ਨੂੰ ਹਟਾਉਣਾ o ਐਟਰੀਅਲ ਫਾਈਬਰਿਲੇਸ਼ਨ ਲਈ ਮੇਜ਼ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ o ਸੈਪਟਲ ਨੁਕਸ ਦੀ ਸਰਜਰੀ o ਦਿਲ ਦੇ ਜਨਮ ਦੇ ਨੁਕਸ ਇਸ ਵਿਧੀ ਦੇ ਵਿੱਚ ਦਿਲ ਤੱਕ ਪਹੁੰਚਣ ਲਈ ਇੱਕ ਵੱਡੇ ਚੀਰੇ ਦੀ ਬਜਾਏ ਤੁਹਾਡੀ ਛਾਤੀ ਤੇ ਛੋਟੇ…

Read More

Facilities & Services

.

FAQ's

A cardiothoracic surgeon is a medical doctor who specializes in surgical procedures of the heart, lungs, esophagus, and other organs in the chest. This includes surgeons who can be called cardiac surgeons, cardiovascular surgeons, general thoracic surgeons, and congenital heart surgeons.

It is required by one who suffers from blocked or narrowed arteries, heart rhythm disorders, or weakened heart muscles, heart valve disease or congenital heart disease.

After the surgery at the best vascular surgery hospital in Dwarka, Delhi, you will be taken to an intensive care unit (ICU) where intensivists will monitor your breathing, blood pressure, alertness, and wound. The patient is usually extubated on the same day or the next day and tubes are removed on the 2nd day. The patient usually starts moving after 2 days and shifts to the ward on the 3rd day and is discharged on the 6th to the 7th day. 

Precautions may differ for all procedures. However, some common precautions include:

  • Consuming softer foods. Your throat may be sore, and you may find it difficult to swallow for an initial 1-2 days.

  • Take all the medicines prescribed by your doctor, which may include painkillers and anti-platelet medications.

  • To limit swelling and pain, you may be advised to keep your head propped up on pillows while lying down.

  • Don't drive until your doctor advises you to.

  • Avoid strenuous activities for a few days, such as heavy exercise or lifting heavy objects, unless advised by your doctor.

  • Resume normal activities only after being suggested by your doctor.

  • Watch for symptoms such as headache or swelling in the neck, or pain or swelling at the site of the procedure. Consult your doctor in case you find such changes.

All in all, it is essential to follow your doctor's advice at the vascular surgery hospital in Dwarka, Delhi.

Usually, a minimally invasive cardiac surgery includes single or multiple very small incisions between your ribs. The surgeon at the top vascular surgery hospital in Dwarka, Delhi then inserts a high-definition endoscopic system with a tiny camera through the incision to have a better view of your heart. The camera helps to display an image of your heart on a monitor.

Its benefits include:

  • A small incision and thus less scar so cosmesis is good

  • Less pain

  • Lower risk of infection

  • A shorter hospital stay

  • A shorter recovery time

A re-do surgery is performing a surgery on a patient who already underwent a heart operation in the past. While many patients may require this surgery, some common ones are:

  • Dysfunctional valves

  • Aneurysm repair

  • Bypass surgery

Explore Stories

Blogs

Call Us