बच्‍चों में हर्निया: चिंता की कोई बात नहीं

आमतौर पर, बुजुर्ग लोगों में ही हर्निया और हाइड्रोसिल की समस्‍याएं देखने को मिलती हैं, लेकिन बच्चे भी हर्निया से पीड़ित हो सकते हैं। असल में, यह बच्चों में होने वाली सबसे आम सर्जिकल समस्‍याओं में से एक है। लेकिन अच्छी खबर यह है कि बच्चों में हर्निया का इलाज आसानी से और बेहद छोटी सी सर्जरी से किया जा सकता है। इस इलाज में ठीक होने की संभावना 100% है। 

बच्‍चों में हर्निया कैसा दिखता है?

आमतौर पर हर्निया की वजह से, रोने या पेट पर ज़ोर देने के दौरान ऊसन्धि (पेट और जांघ के बीच का भाग) या अंडकोश की थैली में सूजन या उभार दिखाई देती है। बच्‍चों को नहलाते समय, यह संयोग से देखा जा सकता है और जब बच्चा आराम कर रहा हो, तो यह उभार कम हो सकता है या फ़‍िर हो सकता है क‍ि दिखे ही न। यह सूजन आमतौर पर स्‍थाई नहीं होती है और इससे बच्चे को कोई दिक्‍कत भी नहीं होती है।

बच्‍चों को हर्निया कैसे हो जाता है?

जब बच्चा मां के गर्भ में होता है, तो अंडकोश या अंडाशय का विकास किडनी के पास पेट में होता है। बच्‍चे के विकसित होने के साथ ही, ये धीरे-धीरे खिसककर पेट के निचले हिस्से में चले जाते हैं। जैसे-जैसे वे नीचे जाते हैं, निचले पेट या ऊसन्धि में एक छोटी ओपनिंग बनने लगती है और अंडकोश की थैली बनकर उसमें अंडकोश झूलने लगते हैं। बच्‍चे के पैदा होने से पहले यह ओपनिंग आमतौर पर बंद हो जाती है, जिससे पेट और ऊसन्धि के बीच का कनेक्‍शन भी मिट जाता है। यदि किसी कारण से इस ओपनिंग के बंद होने में देरी होती है या यह अधूरा रह जाता है, तो पेट से तरल पदार्थ और आंतें खिंचकर ऊसन्धि में जा सकती हैं। यदि केवल तरल पदार्थ बाहर निकलता है, तो इसे हाइड्रोसिल कहा जाता है और यदि आंतें बाहर निकलने लगती हैं, तो इसे हर्निया कहते हैं। बाहर आने वाली आंतें उभार या सूजन के रूप में तब दिखती हैं, जब बच्‍चा रोते या खांसते समय अपने पेट पर ज़ोर देता है और जब बच्‍चे को आराम मिल जाता है, तो यह उभार दिखना बंद हो जाता है और आंतें वापस पेट में चली जाती हैं। यह वयस्कों में होने वाले हर्निया से अलग होता है, जहां पेट की दीवार में कमजोरी के कारण आंत बाहर निकलती है और इसलिए बच्चों के हर्निया का उपचार वयस्कों से थोड़ा अलग होता है।

बच्‍चों में हर्निया कितना आम है?

हर्निया बच्चों में होने वाली सबसे आम सर्जिकल समस्या है। यह 1-4% बच्चों में होती है। इंगग्‍वनल हर्निया के लगभग 80-90% मामले लड़कों में दिखाई देते हैं। यह ज्‍़यादातर दाहिनी ओर होते हैं, लेकिन लगभग 10 प्रतिशत मामलों में, यह दोनों तरफ होते हैं। समय से पहले पैदा होने वाले शिशुओं में हर्निया की समस्‍या ज्‍़यादा होती है। ज्‍़यादातर बच्‍चों में जन्‍म के दो साल के अंदर ही हर्निया दिखाई देता है, लेकिन बाद के सालों में भी हर्निया दिखाई दे सकता है।

बच्‍चों में हर्निया का पता कैसे लगाएं?

आम तौर पर, पीडियाट्रिक सर्जन (बच्‍चों की सर्जरी में विशेषज्ञ सर्जन) जांच करके हर्निया का पता लगा सकता है और इसके बाद किसी और परीक्षण की ज़रूरत नहीं होती है।

बच्‍चों में हर्निया का इलाज कैसे किया जाता है?

इंगग्‍वनल हर्निया का इलाज पीडियाट्रिक सर्जन छोटी सी सर्जरी से कर सकते हैं, जिसके लिए जनरल एनेस्‍थीसिया की ज़रूरत पड़ती है। यह सर्जरी एक छोटा सा चीरा लगाकर या लैप्रोस्कोपी से की जा सकती है। ओपन सर्जरी ऊसन्धि में एक छोटे से चीरे से की जाती है जबकि लैप्रोस्कोपी में हर्निया दोष को स्थायी रूप से बंद करने के लिए पेट में तीन मिनट के कीहोल शामिल होते हैं। वयस्कों के विपरीत, बच्चों में कोई स्थायी मेश की ज़रूरत नहीं होती है। प्रक्रिया के दौरान, चीरे के चारों ओर एक लंबे समय तक काम करने वाली सुन्न करने वाली दवा (लोकल एनेस्‍थीसिया) इंजेक्ट करके दर्द नियंत्रित किया जाता है। हर्निया का इलाज करवाने वाले ज्यादातर बच्चे, आमतौर पर ठीक होने के बाद उसी दिन घर चले जाते हैं। हालांकि, समय से पहले जन्‍मे शिशुओं को रात भर भर्ती रखकर निगरानी में रखना पड़ सकता है। अधिकांश बच्चे कुछ दिनों में ही बिना किसी प्रतिबंध के सामान्य गतिविधियों में जुट सकते हैं, यहां तक ​​कि खेल में भी। इस प्रक्रिया में अंडकोश में मामूली सूजन जैसे कुछ बहुत कम दुष्प्रभाव होते हैं, जो लगभग एक हफ़्ते में अपने-आप ठीक हो सकती है। एक बार हर्निया का ऑपरेशन होने के बाद, इसके दोबारा होने की संभावना न के बराबर है (<0.5%)।

हमें हर्निया का इलाज क्‍यों करना चाहिए?

अगर डॉक्‍टर उभार को आराम से दबाकर वापस पेट में भेज सकता है, तो इस हर्निया को कम करने योग्‍य समझा जाता है। लेकिन कभी-कभी हो सकता है क‍ि यह कम करने योग्‍य न हो और इसे वापस पेट में न दबाया जा सकता हो। इस वजह से आंत के रक्‍त प्रवाह में बाधा आती है और अगर तुरंत इसका इलाज न किया जाए, तो आंतों की स्थिर समस्‍या (गैंगरीन) की वजह से मौत भी हो सकती है। इसलिए एक स्थिर हर्निया एक सर्ज‍िकल इमरजेन्‍सी है और इसका ऑपरेशन तुरंत किया जाना चाहिए। जब हर्निया की वजह से आंतों में बाधा पैदा होने लगेगी, तो बच्‍चा खाना छोड़ देगा, चिड़चिड़ा हो जाएगा और उसे उल्टियां भी हो सकती हैं। यह सूजन तब कम नहीं होती और स्थिर हो सकती है, जिसमें लाल दाग भी दिखते हैं। अगर ऐसा कोई भी लक्षण दिखाई दे, तो तुरंत किसी पीडियाट्रिक सर्जन से सलाह लें। ऐसी किसी जटिलता से बचने के लिए, जल्‍द से जल्‍द हर्निया का ऑपरेशन करवाने की सलाह दी जाती है।

 

 Dr Arvind Sabharwal

  Pediatric Surgeon

डॉ. अरविंद सभरवाल

पीडियाट्रिक सर्जन

 

Appointment
Health Check
Home Care
Contact Us
Write to COO
Call Us